सोमवार, 7 जुलाई 2008

धर्म

मेरी एक पुरानी कविता

धर्म

धर्म ने हमसे बहुत कुछ लिया है
बदले में
गिद्ध की आँख
हाथी के दांत और
कबूतर का दिल दिया है

3 टिप्‍पणियां:

  1. bloggers ki azaad duniya men aapka swagat hai.
    prabhat ranjan

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लागिंग की दुनिया में आपका स्वागत हॆ,गुरुवर! आज के इस तथाकथित’धर्म’ने इंसान को डरपोक ऒर आक्रामक बना दिया हॆ.आपकी यह सारगर्भित रचना,लगभग 14-15 साल पहले,आपके निवास स्थान पर,आयोजित काव्य-गोष्ठी में सुनी थी.पुरानी यादें फिर से ताजा हो गईं. धर्म पर ही आपकी एक ऒर कविता हॆ,उसे भी लिखें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. धर्म पर आपके विचार् जान कर बड़ा अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी सच्‍चाई का दर्पण है